You are currently viewing फाइनेंस कंपनी कैसे शुरू करे | How To Open Finance Company In Hindi
फाइनेंस कंपनी कैसे शुरू करे | How To Open Finance Company In Hindi

फाइनेंस कंपनी कैसे शुरू करे | How To Open Finance Company In Hindi

How To Open Finance Company In Hindi-भारत एक उभरता हुआ बाजार है जो कि उधमिता और निवेश के लिए आदर्श स्थिति प्रदान करता है। भारत के अंदर वित्तिय यानी कि फाइनेंस सेक्टर तेजी से विकास की और बढ़ रहा है, और जो कि अवसरों को खोलता जा रहा है।

फाइनेंस क्षेत्र लगभग 8 प्रतिशत प्रति वर्ष की तेजी से आगे बढ़ रहा है, जो कि एक बहुत अच्छा संकेत है। अगर आप अपनी खुद की फाइनेंस कंपनी खोलना चाहते हो तो यह बिल्कुल सही समय है।

आज हम आपको पूरी प्रकिर्या बताएंगे कि आप एक फाइनेंस कंपनी कैसे शुरू करे | ।

फाइनेंस कंपनी क्या है?

एक फाइनेंस कंपनी बैंक से बहुत अलग होती है, एक फाइनेंस कंपनी ग्राहकों को लोन प्रदान करती है जिससे बदले में उनसे कुछ ब्याज भी लेती है।

एक फाइनेंस कंपनी ग्राहकों से कुछ सामान जैसे कि सोना, घर इत्यादि को गिरवी रख कर लोन प्रदान करती है।

एक फाइनेंस कंपनी मूल रूप से उन लोगो की सेवा करती है जो मुख्यधारा से बैंकिंग और वित्तीय सेवाओं तक नही पोहच पाते है। एक फाइनेंस कंपनी मूल रूप से लोगो की मदद करती है, और उनकी जरूरतों को पूरा करती है।

फाइनेंस कंपनियां क्या करती हैं?

व्यवसाय शुरू करने से पहले, यह अच्छी तरह समझ लें कि फाइनेंस कंपनियां वास्तव में क्या करती हैं। कुछ फाइनेंस कंपनियां उपभोक्ताओं को उधार देती हैं, और कुछ कंपनी व्यवसायों को उधर देती हैं। । फाइनेंस कंपनियां बैंकों की तुलना में अलग संस्थाएं हैं क्योंकि वे जनता से जमा नहीं लेती हैं और सख्त बैंकिंग नियमों के अधीन नहीं हैं।

फाइनेंस कंपनी कैसे शुरू करे | How To Open Finance Company In Hindi

1. बिज़नेस प्रकार चुने

फाइनेंस कंपनी शुरू करने से पहले बिज़नेस का प्रकार चुने देखे की आप किस तरह की कंपनी खोलना चाहते हो, एक फाइनेंस कंपनी के बहुत सारे प्रकार होते है।

फाइनेंस कंपनी के प्रकार।

  • नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी

अगर आप नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी की शुरुआत करना चाहते हो तो आपको इस कंपनी को रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया के तहत रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया न्यूनतम 2 करोड़ से 5 करोड़ पूंजी की अनुमति देता है, आरबीआई लाइसेंस लेने में और बाकी प्रकिर्या पूरा करना में 5 से 6 महीने का समय लगता है।

  • क्रेडिट कोआपरेटिव

अगर आप छोटे स्तर पर फाइनेंस कंपनी की शुरुआत करना चाहते हो तो क्रेडिट कोऑपरेटिव कंपनी आपके लिए सबसे अच्छी है।

क्रेडिट कोऑपरेटिव कंपनी छोटे स्तर यानी कि शहर के अंदर डील करती है।

  • निधि कंपनी

निधि कंपनी एक पूरी तरह से अलग बिज़नेस मॉडल है जिसके लिए आपको कोई भी अलग लाईसेंस लेने की आवश्यकता नही होती है।

निधि कंपनी 5 लाख की पूंजी के साथ लॉच होगी और इसमें पंजीकरण के लिए 15 से 20 दिन का समय लगता है।

  • माइक्रो फाइनेंस कंपनी

माइक्रो फाइनेंस कंपनी के लिए भी आपको आरबीआई से लाइसेंस लेने की आवश्यकता होती है, माइक्रो फाइनेंस कंपनी की आप 5 करोड़ पूंजी के साथ शुरू कर सकते हो।

  • प्रोडूसर कंपनी

निर्माता कंपनी पूर्ण रूप से फाइनेंस कंपनी नही है बल्कि यह किसानों के लिए एक उपयोगी अवधारणा है। निर्माता कंपनी की शुरुआत करने के लिए आपको कम से कम 10 व्यक्ति की आवश्यकता है।

  • लोकल फाइनेंस कंपनी

लोकल फाइनेंस कंपनी वह कंपनी होती है जो कि उच्च ब्याज दर पर धनराशि प्रदान करती है। इस बिज़नेस की शुरुआत करने के लिए आपको अपने राज्य और शहर के नियम और कानून के हिसाब से रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

2. जीएसटी के लिए आवदेन करे

एक फाइनेंस कंपनी के लिए जीएसटी के लिए आवदेन करना बहुत ही आवश्यक होता है, इसीलिए जीएसटी नंबर कर लिए आवदेन करे।

3. लीगल डॉक्यूमेंट ले

एक फाइनेंस कंपनी शुरू करने के बहुत सारी दस्तावेज की आवश्यकता पड़ती है, आप अपने आस पास के वकील से परामर्श कर सकते हो और आवश्यकताओ के अनुसार कानूनी दस्तावेज तैयार कर सकते हो।

4. इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी प्राप्त करे

इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी यानी कि बौद्धिक संपदा प्राप्त करना करना बहुत ही आवश्यक होता है ताकि आपसे से जुड़ी जानकारी जैसे आपका नाम इत्यादि को कॉपी ना कर सके।

5. लाइसेंस प्राप्त करे

एक फाइनेंस कंपनी को कोई भी सेवा प्रदान करने के लिए लाइसेंस की आवश्यकता होती है, इसीलिए एक कंपनी के लिए लाइसेंस लेना बहुत ही महत्वपूर्ण कार्य है।

FAQs

माइक्रो फाइनेंस कंपनी खोलने के लिए पंजीकरण शुल्क क्या है?

माइक्रोफाइनेंस कंपनी के लिए प्रारंभिक पंजीकरण शुल्क रु . 1,90,000 / – है।

भारत में माइक्रो फाइनेंस की शुरुआत कब हुई?

भारत में माइक्रो फाइनेंस कंपनी की शुरुआत 1970 में हुई थी

माइक्रो फाइनेंस क्या हैं?

माइक्रो फाइनेंस एक वित्तीय सेवा है जो उद्यमियों और छोटे व्यवसाय मालिकों को ऋण, बचत और बीमा देती है, जिनके पास बैंकों या निवेशकों जैसे पूंजी के पारंपरिक स्रोतों तक पहुंच नहीं है।

अन्य पढ़े

ऑनलाइन दुकान कैसे शुरू करे

किसी कंपनी की एजेंसी कैसे ले

ड्रॉपशिपिंग बिज़नेस क्या है और कैसे शुरू करे

Leave a Reply